रॉकेट से हुआ अब कबूल एयरपोर्ट पर हमला

Kabul airport par hua rocket hamala

rocket attack

अगानिस्तान की राजधानी काबुल में अंतर्राष्ट्रीय हवाअड्डे पर मंगलवार को तड़के रॉकेट से किया हमला। हालांकि, अमेरिकी डिफेंस सिस्टम ने हवा म ही पांच रॉकेट को नष्ट कर दिए और किसी तरह का नुकसान नहीं हुआ। परन्तु ,यह हमला ऐसे समय में किया गया है जब अमेरिका निकासी अभियान के आखिरी चरण में अपने राजनयिकों को कबूल से भरा भेज रहा है।हमले के वाबजूद निकासी अभियान जारी रहा। सी-17 विमानों ने कई उड़ानें भारी। आतंकी संघटन इस्लामिक स्टेट – के ने हमले की जिम्मेदारी ली है। तालिबान के खिलाफ 20 साल की लड़ाई के बाद अमेरिका मंगलवार यानी 31 को पूरी तरह से अफगानि्तान छोड़ देगा।

अमेरिका सेना के मध्य कमान के प्रवक्ता कैप्टन बिल अर्बन ने कहा कि एयरपोर्ट की तरफ पांच रॉकेट दागे गए। मिसायिल रोधी प्रधाली ने इन सभी पांचों रॉकेट को हवा में ही मर गिराया।कबूल के समीप करावा कस्बे में भी रॉकेट गिरने की खबर है। यह स्थान एयरपोर्ट से करीब तीन किलोमीटर दूर है।
समाचार एजेंसी एपी के अनुसार ,हमलावरों ने कबूल एयरपोर्ट के समीप के चाहर- ए – शहीद इलाके में एक वाहन के जरिए रॉकेट हमले को अंजाम दिया। बाद ने आइस ने अपनी मीडिया साइड अमाक पर एक बयान जारी कर दावा किया कि उसके आतंकियों ने छ रॉकेट दागे है।
ANI के मुताबिक पेंटागन के प्रवक्ता जान क्ररीबी ने कहा कि कबूल में अभी खतरा बना हुआ है। लेकिन लोगों को निकले का काम जारी है।

आई एस के खिलाफ जारी रहेगी लड़ाई

•अमेरिका समेत कई देशों ने इस्लामिक स्टेट के खिलाफ लड़ाई जारी रखने का संकल्प धोराया है।

afghani attacked

• कबूल एयरपोर्ट की सुरक्षा व्यवस्था को जिम्मेदारी संभाल रहे अभी,2700 अमेरिकी सैनिक।
• अमेरिका ने अब तक अफगानिस्तान से 1,22,300 लोगों को निकाला ,इनमें अफगानी भी शामिल है।
•पिछले 24 घंटे में 1200 लोग निकले गए है। इनमें कोर राजनयिक भी संभिल है।

बायडेन को दी गई हमले कि जानकारी

वाशिंगटन में व्हाइटहाउस ने एक बयान जारी किया कर बत्या की राष्ट्रपति बायडेन को काबिल एयरपोर्ट पर रॉकेट हमले से अवगत कराया है।

इसके अनुसार राष्ट्रपति को बताया गया है कि एयरपोर्ट से निकासी अभियान निरंतर जारी है। उन्होंने अमेरिकी बलो की सुरक्षा के लिए हर जरूरी कदम उड़ानें को कहा है।

किसी को नहीं लौटाया जा रहा है

अगानिस्तान में अमेरिका के राजदूत रास विलोंसन ने काबुल से ही कामकाज देख रहे है। सोमवार को उन्होंने ट्वीट कर कहा कि निकासी अभियान जॉर्शोर से चल रहा है। उन्होंने इन दावों को भी ग़लत बत्य जिससे कहा जा रहा ह की एयरपोर्ट से अमेरिकी नागरिकों को वापिस किया जा रहा है।

आइएएस ऐसे करता है हमले

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक हमले के लिए छ देसी रॉकेट का इस्तमाल किया गया। इन्हे जिस वाहन से दगा गया ,वह पूरी तरह जल गया। आइएएस और दूसरे आतंकी आमतौर पर लक्ष्य के करीब पहुंचकर इस तरीके से रॉकेट हमले करते है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Live Updates COVID-19 CASES